Home Odd Funny Videos जरूरत के वक़्त पानी की एक बूंद भी कितनी कीमती होती है,...

जरूरत के वक़्त पानी की एक बूंद भी कितनी कीमती होती है, ये शार्ट फिल्म बड़ी आसानी से समझाती है

0

‘जल ही जीवन है’. ‘जल है तो कल है’. पढने-सुनने में तो ये छोटे से वाक्य लगते है पर इनके पीछे एक यथार्थ निहित है. हालांकि संसार का 97 प्रतिशत भाग जल से घिरा है पर उसमे से केवल 1% ही हमारे पीने योग्य उपलब्ध है. पर क्या 7.6 अरब की बड़ी जनसंख्या के लिए इतना काफी होगा..??

इस शार्ट फिल्म के जरिए इसी गम्भीर मुद्दे को रेखांकित करने का एक प्रयास किया गया है.जरुर देखें…

आज हमने हर क्षेत्र में तरक्की तो कर ली है पर संसाधनों को बिना बिचारे बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. आज जब दुनिया की आधी आबादी जल संकट की और बढ़ रही है वही भारत जैसा देश भी इसी कगार पर है और हो भी क्यों न, हमारे जितनी पानी की बर्बादी कोई और करके दिखाए तो जानें. जो काम एक बाल्टी पानी से हो सकता है उसके लिए कम से कम दस बाल्टी तो हमे चाहिए ही. नल चालू करके खुला छोड़ना तो कोई हमसे सीखे,जाने कितने ही जरुरी काम निपट जाने हैं इतनी देर में.

यह कटाक्ष केवल लेखन के उद्देश्य से नही है बल्कि एक गम्भीर सन्देश छुपा है इसमें,और वो यह कि अगर ऐसे ही पानी की बर्बादी करते रहे तो वो दिन दूर नही जब दुनिया के सारे देश पानी के लिए आपस में ही लड़-मरेंगे.और ये न भी हुआ तो कम से कम आने वाली पीढियां तो हमें इस लापरवाही के लिए कभी माफ़ न करेंगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here