हेकड़ी उतारने के लिए

हेकड़ी उतारने के लिए

0
SHARE

दो नवयुवक एक कार में हरियाणा से पंजाब की ओर जा रहे थे. बॉर्डर पर एक पुलिस
इंस्पेक्टर ने रुकने का इशारा किया…
और जब कार रुकी तो इंस्पेक्टर टहलता हुआ ड्राइवर की खिड़की पर गया और शीशा ठकठकाया…!

police-inspector

गाडी चला रहे नवयुवक ने शीशा नीचा करके सर बाहर निकाल कर पूछा-
” क्या बात है इंसपेक्टर…?”
इंस्पेक्टर ने बिना कुछ पूछे एक झापड़ उसके गाल पर रसीद कर दिया…
युवक :- “अरे…मारा क्यों…?”
इंस्पेक्टर :- “जब पंजाब पुलिस का इंस्पेक्टर किसी गाडी को रुकने कहता है तो ड्राइवर को गाड़ी के कागजात अपने हाथ में रखा हुआ होना चाहिए…!”
युवक :- “सॉरी इंसपेक्टर …….मैं पहली बार पंजाब आया हूँ….!”
फिर उसने  पेपर्स निकाल कर दिखाये..!
इंस्पेक्टर ने पेपर्स का मुआयना किया फिर बोला –
“ठीक है….रख लो….!”

फिर घूमकर पैसेन्जर सीट की ओर गया और शीशा ठकठकाया…!!
पैसेन्जर सीट पर बैठे दूसरे युवक ने शीशा गिराकर सर बाहर निकाल कर पूछा :-
“हाँ बोलिए….?”
तड़ाक…!
एक झापड़ इंस्पेक्टर ने उसे भी मारा..!
“अरे ….! मैंने क्या किया …?”
इंस्पेक्टर :- “ये तुम्हारी हेकड़ी उतारने के लिए…!”
युवक :- “पर मैंने तो कोई हेकड़ी नहीं दिखाई…?”
इंस्पेक्टर :- “अभी नहीं दिखाई…..पर मैं जानता हूँ….एक किलोमीटर आगे जाने के बाद तुम अपने दोस्त से कहते
“वो दो कौड़ी का इंसपेक्टर मुझे मारा होता ….तो बताता….!”

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY